Blogging kya hai – Blog से पैसे कैसे कमाते हैं

हम हर दिन इंटरनेट का उपयोग करते हैं और इंटरनेट पर खोज कर वांछित जानकारी प्राप्त करते हैं, क्या आपने कभी सोचा है कि हमें यह जानकारी कैसे मिलती है, यह जानकारी हमें ब्लॉग से मिलती है, लोगों में सरकारी नौकरी पाने की इच्छा होती है, लेकिन आज बेरोजगारों की संख्या हमारे देश में दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

इसीलिए आज का युवा बिना कुछ किए खाली हाथ घर पर नहीं बैठना चाहता और पैसे कमाने के नए-नए रास्ते खोजता रहता है ताकि अपनी पहचान बना सके।आज के समय में एक बेहतर कैरियर बनाने और पैसा कमाने का सबसे अच्छा जरिया ब्लॉगिंग को माना जा रहा है क्योंकि इसमें धन के साथ-साथ लोगों को लोकप्रियता भी मिलती है इसीलिए आज के इस आर्टिकल में हम आप लोगों को यह जानकारी देने वाले हैं ब्लॉगिंग क्या होता है ?और ब्लॉगर कैसे बन सकते हैं।

Table of Contents

blogging kya hai aur kaise banaye

Blog  क्या है?

ब्लॉक एक ऐसी वेबसाइट है जिस पर आप नियमित रूप से अपने विचार, जानकारी या अनुभव रिकॉर्ड कर सकते हैं। पुराने जमाने में कुछ लोग डायरी लिखा करते थे, लेकिन आजकल इंटरनेट का जमाना है, अगर आप इंटरनेट पर किसी चीज के बारे में लिखते हैं तो उसे ब्लॉग कहते हैं। एक ब्लॉग एक वेब ब्लॉग का संक्षिप्त रूप है।

Blog का इतिहास

ब्लॉग एक अंग्रेजी शब्द है जो एक वेब ब्लॉग का संक्षिप्त नाम है, जो 1998 में शुरू हुआ था, यह गूगल दोबारा दी हुई फ्री सर्विस है जिसके जरिए एक व्यक्ति अपने बातों को पूरी दुनिया के साथ साझा कर सकता है ब्लॉग का उपयोग लोग अपनी विचारों का दूसरे तक पहुंचाने के लिए करते हैं ब्लॉग पर लिखी गई लेख हर एक व्यक्ति तक पहुंच जाती है जो गूगल पर उसके बारे में खोजता है।

ब्लॉग एक ऐसी वेबसाइट की तरह है जिसे बिल्कुल मुफ्त बनाया जा सकता है और गूगल ने इसका इंटरफेस इस तरह से बनाया है कि हर कोई आसानी से सवाल पूछ सकता है और इसका इस्तेमाल कर सकता है।

Websites और Blog मैं अंतर क्या है ?

वेबसाइट और ब्लॉग में सिर्फ इतना ही अंतर है कि वेबसाइट बनाने के लिए कई तरह के वेब डिजाइनिंग प्रोग्राम की जानकारी होना जरूरी है और इसे बनाने में पैसे भी लगते हैं जबकि ब्लॉक 1 एक फ्री सर्विस है जिसके लिए वेबसाइट बनाने की जरूरत होती है जैसे joomla,jimdo,tumblr,blogger,ghost,medium,wordpress इत्यादि के माध्यम से कोई भी व्यक्ति बहुत ही आसानी से और बहुत जल्द ब्लॉग बना सकता है।

एक blog एक व्यक्ति या एक समूह द्वारा चलाया जाता है। ब्लॉग लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं और हर कोई इनका इस्तेमाल करना पसंद करता है। शुरुआती दिनों में ब्लॉक फ्री में बनाए जा सकते हैं और बाद में अपनी जरूरत के हिसाब से कस्टमाइज किए जा सकते हैं।

मुफ्त ब्लॉग में सभी तरह के विशेषताएं नहीं होती ब्लॉक का आकार वेबसाइट की तुलना में बहुत ही छोटा होता है इसीलिए ब्लॉक को डिजिटल डायरी भी कहा जाता है।

ब्लॉग में लेख, फोटो, वीडियो और एक्सटर्नल मौजूद होते हैं, और ब्लॉक की सामग्री को ब्लॉक पोस्ट कहा जाता है। इन ब्लॉग पोस्ट को सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंक्डइन पर साझा किया जा सकता है।

Blog क्यों लिखा जाता है?

15 से 20 साल पहले के समय में लोग डायरी पत्रिका या सुझाव या कोई भी महत्वपूर्ण बात लिखते थे और समाचार पत्रों या पत्रिकाओं के माध्यम से सभी के साथ साझा करते थे, उसी तरह आज के आधुनिक युग में लोग इंटरनेट पर लिखना पसंद करते हैं और उसे शेयर करते हैं इसी को ब्लॉग कहा जाता है।

ब्लॉग किसी भी विषय पर लिखे जाते हैं, उनके विषय सामान्य भी हो सकते हैं और विशेष भी। कई ब्लॉग किसी विशेष विषय से संबंधित होते हैं और उस विषय से संबंधित समाचार जानकारी या विचार प्रदान करते हैं।

जैसे टेक्नोलॉजी से संबंधित ब्लॉग होते हैं जिनमें नई और पुरानी टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी दी जाती है, ब्लॉग लिखने वाले को ब्लॉगर कहा जाता है, और ब्लॉग पर किए गए कार्य को ब्लॉगिंग कहा जाता है।

Blogging क्या है?

एक blog बनाना, उस पर प्रतिदिन लेख लिखना और उस लेख को लोगों के साथ साझा करना, अपने ब्लॉग को अच्छी तरह से डिजाइन करना, इन सभी गतिविधियों को ब्लॉगिंग कहा जाता है।

इसे बनाने वाले व्यक्ति को समय-समय पर विचारों को साझा करते रहना होता है, ब्लॉग में पोस्ट लिखना, अपना ब्लॉक डिजाइन करना और पोस्ट पर टिप्पणियों का जवाब देना होता है, इसी तरह ब्लॉगर ब्लॉक को चलाने के लिए जो कुछ भी करते हैं, उसे हम सरल शब्दों में ब्लॉगिंग कहते हैं।

ब्लॉग के माध्यम से भी ऑनलाइन पैसा कमाया जा सकता है। ब्लॉगिंग किसी भी विषय पर की जा सकती है जैसे खेल, मनोरंजन, स्वास्थ्य, तकनीक, विज्ञान आदि।

Blog के प्रकार

ब्लॉक के २ कैटेगरी में बांटा गया है एक है personal blog और दूसरा है professional blog।

Personal Blog :- यह वह ब्लॉगर्स होते हैं जिनके पास कुछ कहानी घटना सत्य कथा या तजुर्बा होता है जिन्हें वह सबके साथ साझा करते हैं यह कहानी या तजुर्बा उनके निजी जीवन के ऊपर भी हो सकता है या फिर किसी और व्यक्ति के बारे में भी हो सकता है।

इस तरह के blog ज्यादातर मशहूर हस्तियों और प्रसिद्ध लोगों द्वारा बनाए जाते हैं ताकि वे अपनी चीजों को अपने ब्लॉग के माध्यम से आम लोगों के साथ साझा कर सकें, उन्हें ब्लॉगिंग से पैसा नहीं कमाना पड़ता है, वे सिर्फ एक शौक के रूप में ब्लॉगिंग करते हैं, लोग इस प्रकार के ब्लॉक को पढ़ना भी बहुत पसंद करते हैं ताकि वे अपने कलाकार को करीब से जान सकें।

Professional Blogging:- प्रोफेशनल ब्लॉगिंग उन ब्लॉगर्स द्वारा की जाती है जो अपने ब्लॉगिंग को अपना पेशा या व्यवसाय मानते हैं, जिससे वे इतना पैसा कमाते हैं कि वे अपनी जरूरतों और सपनों को पूरा कर सकें।

जिसमें बेहतर योजना स्थिति, बेहतर राजनीति और समय, सब कुछ पर काम करना होता है। प्रोफेशनल ब्लॉगर अपने ब्लॉग को कई तरह से monetize करके पैसा कमाते हैं, जैसे कि Google Adsense, Advertising, Membership Websites, Affiliate Marketing, Donation, Online Courses इत्यादि।

इनमें से Google Adsense पैसे कमाने का सबसे अच्छा और प्रभावशाली तरीका तरीका है।

एक पेशेवर ब्लॉगर एक निजी ब्लॉग से बहुत अलग होता है, अगर आपको लिखने का शौक है, तो आप आसानी से ब्लॉगिंग का रास्ता चुन सकते हैं, लेकिन अगर आप ब्लॉगिंग के जरिए अच्छा पैसा कमाना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए बेहतर योजना बनाने और कड़ी मेहनत करने की जरूरत है। .

ब्लॉगिंग करना आसान नहीं है, अगर आप सोच रहे हैं कि आज आपने ब्लॉगिंग शुरू की है तो कल से ही पैसा आना शुरू हो जाएगा, तो आप बिल्कुल गलत हैं, इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी और सबसे ज्यादा इंतजार करने की जरूरत है।

Blogger कैसे बने ?

ब्लॉगर वह व्यक्ति होता है जो समय-समय पर अपने ब्लॉग वेबसाइट पर लेख लिखता है, ब्लॉगर बनने के लिए किसी विशेष योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है, किसी भी वर्ग का व्यक्ति समय निकाल कर इसे कर सकता है।

एक छात्र गृहिणी नौकरी करने वाले व्यवसायी युवा बुजुर्ग के लिए प्रत्येक व्यक्ति जिसके पास लिखने के लिए कुछ है और जो लिखना पसंद करता है उसे इंटरनेट और ब्लॉगिंग के बारे में कुछ ज्ञान होना चाहिए।

साथ ही आपको अपने आप से पूछना होगा कि आप किस क्षेत्र के विशेषज्ञ हैं जिस पर आप लोगों के साथ अधिक से अधिक जानकारी साझा कर सकते हैं क्योंकि ब्लॉग बनाने से पहले हमें Niche एक विषय का चयन करना होता है और उसमें से प्रासंगिक जानकारी लिखनी और साझा करनी होती है।

इसलिए सबसे पहले आपको यह सोचना होगा कि आप किस विषय पर दूसरों की तुलना में बेहतर लिख सकते हैं, इस दुनिया में लाखों ब्लॉग हैं।

ऐसे कई विषय हैं जिन पर रोजाना कुछ न कुछ लिखा जा सकता है जैसे फैशन फूड फिटनेस लाइफस्टाइल स्पोर्ट्स मूवी गेमिंग अंतिम प्रौद्योगिकी, आदि।

इनमें से कोई भी विषय इनसे भिन्न हो सकता है, यह सिर्फ आपका पसंदीदा विषय होना चाहिए जिस पर आप बिना किसी रूकावट के लिख सकें, आपके लिए यह सही रहेगा कि आप Niches चुनें जिस पर आप अधिक से अधिक लेख लिख सकें।

आप चाहें तो अपने ब्लॉग पर एक से अधिक niche  पर आर्टिकल लिख सकते हैं, blooging  करके पैसा कमाने के लिए आपके ब्लॉक पर अच्छा ट्रैफिक होना चाहिए, जिसके लिए एक ब्लॉगर को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

एक ब्लॉगर को अपने ब्लॉग को सफलतापूर्वक चलाने के लिए न केवल लेख लिखने होते हैं बल्कि ब्लॉक के लिए योजना बनाने और लक्ष्यों को निर्धारित करने, किस विषय पर लिखना है, और सप्ताह में कितनी बार लिखना,प्रकाशित करना जैसे कई अन्य काम भी करने होते हैं।

आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च करनी पड़ती है, टॉपिक से जुड़े कीवर्ड्स ढूंढने पड़ते हैं, ब्लॉग पोस्ट के लिए सही इमेज का चुनाव करना पड़ता है, वेबसाइट का डिजाइन समय-समय पर बदलना पड़ता है, जैसी समस्याएं अपनी वेबसाइट की गति को समय-समय पर सुधारना होगा।

ब्लॉग पोस्ट को अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करना होता है, कमेंट का जवाब देना होता है, ब्लॉगर्स के साथ संबंध स्थापित करना होता है और दूसरों की मदद करनी होती है, अपने दर्शकों के संपर्क में रहना होता है, यह सब काम करना होता है।

यदि आप यह सब काम करने में सक्षम हैं और अपना कीमती समय ब्लॉग पर बिताना चाहते हैं तो आप निश्चित रूप से एक ब्लॉगर बन सकते हैं। Blog एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा व्यक्ति अपने विचार और सोच राय और ज्ञान को लोगों के सामने रखता है।

यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां हर दिन नई चीजें लिखनी होती हैं और उन लोगों को हर दिन नई चीजें सीखने को मिलती हैं।

यूनिक आर्टिकल कैसे लिखें?

ब्लॉगिंग हो या अपनी वेबसाइट के लिए लेख लिखना, इन सब में सफलता पाने के लिए  ओरिजनल और यूनिक कॉन्टैक्ट होता है, जिसे बरक़रार करना आसान नहीं होता, लेकिन ब्लॉगर्स और कंटेंट राइटर जो कॉन्टैक्ट की वैल्यू समझते हैं, उसे नया और यूनिक बनाते हैं।

अपनी रूचि को देखते हुए लिखें (Write according to your interest) :- अपनी रुचि को देखते हुए लिखें, कई बार ब्लॉगर उन विषयों का उपयोग करते हैं जो उन्हें पसंद नहीं होते हैं

लेकिन अन्य सभी ब्लॉगर उन विषयों पर लिख रहे होते हैं। ऐसे में उन्हें नहीं लगता कि जरूरी नहीं है कि आप भी ऐसा ही करें और अगर आपको ऐसा करना जरूरी लगे तो आपको सब्जेक्ट को थोड़ा अलग तरीके से लिखना आना चाहिए।

आपका article लिखने का अंदाज बाकी Bloggers से अलग होना चाहिए तभी आप Unique होंगे. आप सामग्री लिख सकते हैं और यदि आपके लिए ऐसा करना संभव नहीं है तो उन विषयों पर लिखने के बजाय ऐसे विषयों पर लिखें जिन पर आप बेहतर और अद्वितीय लेख लिख सकें।

प्रेरणा का पालन करें (Follow the inspiration:):- अगर आप कुर्सी टेबल पर बैठकर लैपटॉप पर कॉन्टैक्ट्स ढूंढ रहे हैं तो एक समय के बाद आपको बोरियत महसूस होने लगेगी क्योंकि आपके पास कुछ भी नया नहीं बचेगा।

वही आपके आर्टिकल और ब्लॉग में दिखेगा, बेहतर होगा कि आप अपना दायरा बढ़ाएं, एक कमरे के बाहर, घर के बाहर, हर जगह, और हर किसी से कुछ न कुछ सीखते रहें, इसके लिए बहुत जरूरी है अपनी चीजों का निरीक्षण करें।

प्रकृति से आप कुछ न कुछ नया सीख सकते हैं इसलिए आपको अपने सीमित दायरे से बाहर जाकर हर जगह कुछ नया सीखने को मिलेगा जिसे आप भी अपने लेख में शामिल कर सकते हैं।

अपने व्यक्तिगत अनुभव को जोड़ें (Add Your Personal Experience):- हर किसी का व्यक्तिगत अनुभव एक विषय पर अलग होता है, आप अपने व्यक्तिगत सुझाव देकर अपने लेख को विशिष्ट बना सकते हैं, चाहे आप किसी भी विषय पर अपना लेख लिख रहे हों।

समस्या का समाधान (Problem Solving):- यदि आप एक अनूठा लेख लिखना चाहते हैं तो आप अपने पाठक को ढूंढते हैं, आप अपने लेखन के माध्यम से समस्या का समाधान देते हैं, यदि आप उनकी समस्या का समाधान पहले दे पाएंगे, तो वे आपसे जुड़ा हुआ है । साथ ही वह आपकी मेहनत की सराहना भी करेंगे।

गहन शोध करें (Do deep research):- किसी भी विषय पर लिखने से पहले आप अच्छे से शोध कर लें, अर्थात यदि आप उस विषय से संबंधित प्रत्येक विषय को लोगों को समझाने का प्रयास करेंगे तो आप ऐसा गुणवत्ता सामग्री प्रदाता प्रदान कर सकेंगे जो पूरी तरह से अद्वितीय  होगा और उस विषय से संबंधित लगभग सभी प्रश्नों का उत्तर देना होगा।

इमेज का प्रयोग करें (Use Images):- पाठक को अपने ब्लॉक की ओर आकर्षित करने के लिए आपको अपने लेख में कॉपीराइट मुक्त फोटो का भी उपयोग करना होगा क्योंकि हर छोटी से छोटी चीज पाठक को आकर्षित करती है।

अपने ज्ञान को बढ़ाये (Increase your knowledge) :- article को Unique तभी बनाया जा सकता है जब उस article में सब कुछ अलग-अलग शब्दों में बहुत अच्छे से लिखा गया हो और ये सब करने के लिए आप अपने knowledge को भी बढ़ाये. आपको अच्छी किताबें पढ़नी चाहिए ताकि आपको नए शब्द,नए भाव और नया अनुभव मिल सके जिसे आप अपने लेख में शामिल कर सकें।

Blogger Vs WordPress कौन सा बेहतर है?

blogging kya hai aur kaise banaye

अगर आप ब्लॉगिंग करना चाहते हैं तो आपके पास दो विकल्प हैं पहला ब्लॉगर और दूसरा वर्डप्रेस। अगर हम बात करें ब्लॉगर की तो ब्लॉगर में आपको बहुत ही लिमिटेड फीचर मिलते हैं।

दूसरी तरफ आपको वर्डप्रेस में बहुत सारे फीचर मिल जाते हैं आप हर चीज के अंदर अपने हिसाब से कस्टमाइज और SEO कर सकते हैं आपको अलग-अलग ऑप्शन मिलते हैं।

अनुकूलन/customization

ब्लॉगर के अंदर आपको सिर्फ Customization के नाम पर ज्यादा प्रोफेशनल लुक नहीं मिलता है सिंपल सी थीम मिल जाती है।

फ्री थीम के अंदर आपको ज्यादा फीचर नहीं मिलते आपको पेड थीम लेनी पड़ती है और उसमें भी आपको लिमिटेड फीचर ही मिलते हैं क्योंकि ज्यादातर डेवलपर ब्लॉगर्स के लिए काम नहीं करते अगर आप सिंपल थीम चाहते हैं तो आप ब्लॉगर ले सकते हैं।

लेकिन अगर आप एक प्रोफेशनल लुक चाहते हैं तो उसके लिए आपको वर्डप्रेस का इस्तेमाल करना होगा। WordPress में Customization के नाम पर अगर हम थीम की बात करें तो आपको काफी अच्छा प्रोफेशनल लुक मिल जाता है।

वर्डप्रेस की फ्री थीम में आपको कई सारे फीचर भी मिलेंगे। अंदर आपको थीम के साथ-साथ प्लगिंग का भी सपोर्ट मिलता है आप वर्डप्रेस के अंदर बहुत ही आसानी से Customization कर सकते है।

Price/कीमत

अगर कीमत की बात करें तो ब्लॉगर बिल्कुल फ्री है क्योंकि यह गूगल की एक फ्री सर्विस है जिसके कारण आपको ब्लॉगर के अंदर बहुत कम फीचर मिलते हैं।

वहीं अगर बात करें वर्डप्रेस की तो वर्डप्रेस के अंदर आपको डोमेन और होस्टिंग खरीदनी पड़ती है।

SEO फ्रेंडली

ब्लॉगर के अंदर आपको ज्यादा विकल्प नहीं मिलते हैं, ब्लॉगर के अंदर आपको सर्च इंजन

ऑप्टिमाइजेशन के आसान विकल्प मिलते हैं जैसे टाइटल डिस्क्रिप्शन और इंटरनल लिंकिंग आदि।

वर्डप्रेस के अंदर आपको बहुत सारे ऑप्शन मिल जाते है सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करने के लिए आप हर पोस्ट के आर्टिकल और फोटो का सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कर सकते है।

वर्डप्रेस के अंदर बहुत ही आसानी से आपको बहुत सारे प्लगिंग भी मिल जायेंगे जिसका इस्तेमाल करके आप अपने पोस्ट को बेहतर बना सकते है। अच्छे से ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं।

कमाई की संभावना

आपको ब्लॉगर के अंदर सब कुछ सीमित मिलता है, आपको ग्राहक जेसन कस्टमाइज़ का सीमित विकल्प मिलता है, और आपको SEO अनुकूलन में सीमित विकल्प मिलते हैं।

आप अपनी वेबसाइट के ऊपर अलग से कोई नया विकल्प नहीं जोड़ सकते हैं, इन सभी कारणों से आपकी वेबसाइट ज्यादा नहीं बढ़ पाती है, यही कारण है कि ब्लॉगर में कमाई भी कम होती है।

वहीं अगर बात करें वर्डप्रेस की तो वर्डप्रेस के अंदर आप अपने खुद के कस्टमाइज कर सकते हैं,यही कारण है कि वर्डप्रेस एक ब्लॉगर से ज्यादा कमाता है।

Free Domain से फायदा होगा या नुकसान ?

ब्लॉगिंग के क्षेत्र में आने वाले नए ब्लॉगर्स के मन में कई तरह के विचार आते हैं जैसे कि info, .co.in, .cn .us, .org आदि डोमेन को लेकर।

इस प्रकार का डोमेन लेना हमारे लिए सही है या नहीं, इस प्रकार का डोमेन लेने से सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा,हमारे दिमाग में तरह-तरह के विचार आते रहते हैं कि अगर हमें इस तरह के डोमेन का इस्तेमाल करना चाहिए तो क्यों करना चाहिए और अगर नहीं तो क्यों नहीं करना चाहिए।

जब डोमेन नाम पंजीकृत करने की बात आती है, तो हम में से अधिकांश लोग .com, .org, .net और .in के लिए जाते हैं, लेकिन ऐसे कई डोमेन हैं जो मुफ्त में उपलब्ध हैं।

दोस्तों अगर हम टेक्नोलॉजी को समझें तो सभी Domain बराबर हैं क्योंकि अगर इनमें से कोई भी डोमेन खराब होता तो टेक्नोलॉजी खुद नहीं अपना पता।

अगर सभी Domain की Value बराबर है तो हम .com ही क्यों लें और ज्यादातर लोग .com ही क्यों लेते हैं? .com डोमेन आज के दौर में बहुत ही प्रसिद्ध हो चुका है, .com भी सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला डोमेन है, और .com पर लोगों का भरोसा भी बना है।

Domain और Hosting में क्या अंतर है?

इंटरनेट पर आपके द्वारा देखी जाने वाली सभी वेबसाइटें जैसे www.facebook.com Domain हो गया।

Domain (डोमिन):- जैसे आपकी कोई दुकान है उस दुकान का नाम हिन्दुस्तान इंटरप्राइजेज है तो आपकी दुकान हिन्दुस्तान इंटरप्राइजेज एक तरह से Domain बन चुकी है।

ठीक उसी तरह से इंटरनेट की दुनिया बहुत बड़ी है और इंटरनेट की दुनिया में नाम रजिस्टर करना चाहे वह वेबसाइट का हो या फिर blog वेबसाइट उसे डोमिन कहते हैं।

होस्टिंग (Hosting) :- इंटरनेट होस्टिंग की दुनिया में आपके डेटा को स्टोर करने में मदद करती है जैसे कि आपकी दुकान है और दुकान का नाम हिंदुस्तान एंटरप्राइजेज है, हिंदुस्तान एंटरप्राइजेज आपका Domain नाम है और दुकान के अंदर की जगह होस्टिंग है।

Search Engine Optimization क्या है?

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसकी मदद से हम अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को गूगल के अंदर इंडेक्स कर सकते हैं । SEO दो प्रकार के होते हैं जैसे ऑन-पेज SEO और ऑफ-पेज SEO।

On-Page SEO

अगर आपके पास एक ब्लॉग वेबसाइट या YouTube चैनल है, तो आप सर्च इंजन में कंटेंट को चलाने के लिए जो भी सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन प्रक्रिया करते हैं, जैसे कि अच्छा कंटेंट लिखना, सही टाइटल लिखना और सही विवरण लिखना, सभी इन प्रक्रियाओं के अंदर On-Page SEO आता है

गुणवत्ता सामग्री शीर्षक छवि अनुकूलन मेटा विवरण ऑल्ट टैग छवियां ये सभी ऑन-पेज एसईओ के अंदर आती हैं

बिना On-Page SEO के Google के अंदर किसी भी Blog या Website को Index करना या चलाना मुश्किल है।

Off Page SEO:– ऑन पेज एसईओ पूरी तरह से हमारे कंट्रोल में रहता है, ऑन पेज एसईओ के अंदर महत्वपूर्ण कारक होते हैं। जैसे कि

Quality Content Create करें:- हमेशा एक अच्छा आर्टिकल लिखें एक अच्छा आर्टिकल लिखने के लिए आपको कीवर्ड रिसर्च इमेज ऑप्टिमाइजेशन के साथ-साथ SEO फ्रेंडली टाइटल का भी इस्तेमाल करना चाहिए।

टाइटल:- टाइटल के अंदर हमेशा मेन कीवर्ड का इस्तेमाल करें और आपका टाइटल आपके द्वारा लिखे गए आर्टिकल के जैसा ही होना चाहिए क्योंकि जब सर्च इंजन आपके कंटेंट को crawls करता है तो एक अच्छा टाइटल उसे समझने में मदद करता है। यह सामग्री किस बारे में लिखी गई है, इसके बारे में आपका शीर्षक आकर्षक होना चाहिए।

हेडिंग टैग:- अच्छा हेडिंग और टैग सर्च इंजन यह समझने में मदद करता है कि आपका कंटेंट कैसा है और आपका कंटेंट किस बारे में है। और यूजर आपके लिखे आर्टिकल को अच्छे से समझ सकता है।

High Searchable और Low Competition Keywords:- अगर आप High Searchable और Low Competition वाले की-वर्ड्स के ऊपर आर्टिकल लिखते हैं तो आपके आर्टिकल्स गूगल में जल्दी चलते हैं।

इसके अलावा On-Page SEO के बहुत सारे factors हैं, अब हम बात करते हैं Off-Page SEO की।

Off Page SEO क्या है?

ऑफ-पेज एसईओ ऑन-पेज एसईओ के बिल्कुल विपरीत है। Off-Page SEO में आप अपनी पोस्ट लिखने के बाद जो भी प्रोसेस बाहर से अपने ब्लॉग, youtube चैनल या वेबसाइट को चलाने के लिए करते है उस पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए करते है

जैसे उन्हें प्रमोट करना। विज्ञापन, अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को सोशल मीडिया पर साझा करना, ये सभी Off Page SEO के अंतर्गत आते हैं।

Off Page SEO  की मदद से हम अपनी डोमेन अथॉरिटी को बढ़ाते हैं, यह सब क्वालिटी वेबसाइट्स से लिए गए बैंक लिंक्स की मदद से होता है।

अपनी वेबसाइट को सोशल मीडिया पर शेयर करें:- पेज SEO में भी कई महत्वपूर्ण कारक होते हैं जैसे आपको अपनी वेबसाइट को सोशल मीडिया दोस्तों के साथ शेयर करना होगा, आप अपने ब्लॉग वेबसाइट या YouTube चैनल को फिर से सोशल मीडिया के माध्यम से भी प्रमोट कर सकते हैं, और आप अपनी वेबसाइट या YouTube चैनल का लिंक फेसबुक, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम, ट्विटर वगैरह जैसे सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते हैं।

बैकलिंक्स बनाना (Creating Backlinks):- ओपन सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन में एक महत्वपूर्ण कारक है, बैकलिंक्स बनाना इतना आसान नहीं है, इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी, इसके लिए आपको अपनी जैसी अन्य वेबसाइटों से संपर्क करना होगा और उनसे अनुरोध करना होगा ताकि आप को अच्छी और क्वालिटी Backlinks दे सकता है जो आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन में चलाने में मदद कर सकता है।

गलतियां जो नए ब्लॉगर करते हैं

  • बिना किसी विचार के ब्लॉग शुरू करना
  • सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन के बिना ब्लॉग लेख लिखना।
  • आर्टिकल लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च नहीं करना
  • कंटेंट के हिसाब से थीम ना लगाएं, आप जिस भी Content से रिलेटेड आर्टिकल लिख रहे हैं, आपकी थीम भी उसी कैटेगरी की होनी चाहिए।
  • अपनी वेबसाइट के शीर्ष पर टूल की मदद से किसी और द्वारा लिखे गए लेख को टूल की मदद से लिखें।

Website पर ट्रैफिक कैसे लाये ?

QNA Website:- सवाल और जवाब की बहुत सारी वेबसाइट है, जिसके अंदर आप एक अच्छा लेख लिखकर अपनी वेबसाइट का लिंक जोड़ सकते है, Quora जैसे सवाल और जवाब की बहुत सारी वेबसाइट है

प्रश्नोत्तर वेबसाइट पर सीधे अपनी वेबसाइट का लिंक न दें, इससे आपकी वेबसाइट पर Ads limit या Google Adsense बंद हो सकता है।

गेस्ट पोस्टिंग:- गेस्ट पोस्टिंग के कुछ नियम होते हैं, सबसे पहले मैं आपको बता देता हूँ कि जहाँ आपको गेस्ट पोस्टिंग करनी होती है वहाँ मीडियम जैसे प्लेटफॉर्म पर आप गेस्ट पोस्टिंग करके अपनी वेबसाइट पर अच्छा खासा ट्रैफिक ला सकते हैं।

जो भी वेबसाइट है उसके अंदर आपको Sign Up करना होता है जो की एक साधारण सी बात है बहुत सी ऐसी वेबसाइट होगी जो फ्री होगी और बहुत सी ऐसी वेबसाइट है जो फ्री नहीं है मैं आपको सलाह दूंगा की आप फ्री में इस्तेमाल करे शुरुआती समय मैं

वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने के लिए आपको on-page SEO और off-page SEO का ध्यान रखना होगा।

बिना Google Adsense के पैसे कमाने का सबसे अच्छा तरीका

Blog से पैसे कमाने से बहुत पैसा कमाया जा रहा है, लेकिन आपका Google Adsense Account Approve नहीं हो रहा है, अगर आपका Adsense Account Approve हो भी जाता है, तो भी आपको इतनी अच्छी Income नहीं मिल रही है क्योंकि आपकी Website पर Traffic बहुत कम है।

Google Adsense के अलावा और भी कई तरीके हैं जिनकी मदद से आप कमाई कर सकते हैं।

यदि आप किसी कंपनी की मदद कर सकते हैं, यदि उस कंपनी के पास उसका उत्पाद या किसी प्रकार का टूल सॉफ्टवेयर आदि उपलब्ध है,

कौन सा नया उत्पाद बाजार में आ रहा है, कौन से नए उपकरण हैं जो दर्शकों के लिए उपयोगी हो सकते हैं। आप उस कंपनी को यह कहते हुए ईमेल कर सकते हैं कि आप उनके उत्पाद को बेचने में उनकी मदद कर सकते हैं

Affiliate Marketing जो भी उत्पाद, सेवा उपकरण, आदि आप स्वयं उपयोग करते हैं, आप अपने दर्शकों को उस उत्पाद के बारे में बता सकते हैं जो आपके लिए उपयोगी है, और आप अपने दर्शकों को उस उत्पाद के बारे में बता सकते हैं यदि वह उत्पाद आपके दर्शकों के लिए उपयोगी है। अगर आपकी ऑडियंस उस प्रोडक्ट या टूल को खरीदती है तो बदले में आपको एक फ्लैट अमाउंट दिया जाएगा।

निष्कर्ष

दोस्तों, अंत में मैं आप सभी से 4-5 लाइन कुछ कहना चाहता हूं।

इस आर्टिकल में मैंने आपको ब्लॉगिंग के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है और ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाए जा सकते हैं इसके बारे में भी विस्तार से बताने की कोशिश की है।

दोस्तों ब्लॉग्गिंग करने से आपको तुरंत परिणाम नहीं मिलेंगे, इसके लिए आपको कुछ समय का इंतजार करना होगा।

Blogging से आप घर बैठे पैसे कमा सकते है। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें। शुक्रिया।

ब्लॉगिंग की शुरुआत कब हुई थी ?

17 दिसम्बर 1997 

ब्लॉगिंग शुरू करने के लिए कितने पैसों की निवेश होती है ?

3500

क्या हम फ्री में ब्लॉगिंग की शुरुआत कर सकते हैं ?

जी हां बिल्कुल आप Blogger पर अपना free ब्लॉक शुरुआत कर सकते हैं।

हिंदुस्तान का नंबर वन ब्लॉगर कौन है ?

Amit Agarwal

ब्लॉगिंग से पैसे कमाने का सबसे अच्छा तरीका कौन सा है ?

Google Adsence,एफिलिएट मार्केटिंग, पेड पोस्ट, इत्यादि .

Leave a Comment